नवीनतम

Post Top Ad

स्वच्छ भारत, स्वच्छ भिलाई - भिलाई के लोगों ने दिखलाया जनभागीदारी - [Hindi Article] Lekhak Ki Lekhni


 Swachh Bharat Abhiyan Bhilai Chhatisgarh #swachhbharat
जब बात हुई -
स्वच्छ भारत अभियान,
स्वच्छ एवं सुंदर भिलाई।

निर्माण एवं विध्वंस से निकलने वाले कचरे का पुनः उपयोग कर बना रहे ईट एवं अन्य उपयोगी सामग्री। जल है तो कल है जल ही जीवन है। 

स्वच्छ एवं सुंदर शहर बनाने तालाबों की सफाई में नागरिकों ने निभाई अपनी सहभागिता भिलाई को स्वच्छ और सुंदर बनाने के लिए नगर पालिक निगम भिलाई के साथ अब आमजन सहभागिता दे रहे है।

भिलाई निगम क्षेत्र के तालाबों की सफाई में लोग सामूहिक रूप से हाथ बंटा रहे है। शहर की सड़कों को सुंदर बनाने निगम के सफाई कर्मचारी प्रतिदिन सफाई करने के साथ मुख्य सड़कों व डिवाइडरों को पानी टैंकर के जरिए सफाई कर धूलमुक्त बना रहे है। शहर के प्रमुख बाजारों की दोनो पाली में सफाई की जा रही है।  स्वच्छता महाअभियान के तहत शहर के विभिन्न क्षेत्रों में बिखरे झिल्ली पन्नी के कचरे को भी हटाया जा रहा है। नगर पालिक निगम भिलाई क्षेत्रांतर्गत सभी तालाबों को स्वच्छता मिशन के तहत साफ किया जा रहा है, स्वच्छता अभियान में निगम के सभी जोन स्तर के सफाई कर्मचारियों का अमला  तलाब परिसर के किनारे झिल्ली, पन्नी व अन्य प्रकार के कचरे को निकालने के साथ ही पचरी को भी साफ कर रहे है। 

Swachh Bharat Abhiyan Bhilai Chhatisgarh #swachhbharat 2020
भिलाई नगर में मदर टैरेसा नगर जोन कार्यालय के समीप स्थित स्थल पर निर्माण एवं विध्वंस से निकले कचरे का पुनः उपयोग कर ईट आदि बनाने का कार्य किया जा रहा है। नगर निगम भिलाई के आयुक्त ने निगम के जोन क्षेत्रों से निर्माण एवं विध्वंस (सी एंड डी) से निकलने वाले कचरे को अपशिष्ट प्रबंधन नीति 2017 के तहत हटाने के निर्देश दिए हैं जिस पर विभिन्न क्षेत्रों से इस प्रकार के मलबे को हटाने का कार्य किया जा रहा है जिसके लिए एजेंसी नियुक्त की गई है। बढ़ते हुए शहरीकरण के साथ-साथ भवनों एवं अन्य निर्मित संरचनाओं के कारण निर्माण एवं विध्वंस के अपशिष्ट अत्यधिक मात्रा में उत्पन्न हो रहे हैं, इनकी मात्रा में निरंतर वृद्धि हो रही है जिसका इसी स्तर पर समुचित निपटान किया जाना आवश्यक है। निर्माण एवं विध्वंस से निकले हुए अपशिष्ट को संग्रहण कर निश्चित स्थान पर परिवहन करने के लिए एक एसोसिएटेड को जिम्मा दिया गया है जो कि जोन के आयुक्त, स्वास्थ्य अधिकारी एवं स्वच्छता निरीक्षक के निर्देशन में इस प्रकार के अपशिष्ट को उठाने की कार्यवाही करेंगे। निर्माण एवं विध्वंस से निकले हुए कचरे कहां-कहां पर पड़े हुए हैं इसका सर्वे भी कई स्थानों पर किया जा चुका है। जोन क्रमांक दो मे विभिन्न स्थलों पर इस प्रकार के कचरे को सूचीबद्ध किया गया है, जहाँ से निर्माण एवं विध्वंस के अपशिष्ट को हटाने का कार्य किया जा रहा है, सी एण्ड डी वेस्ट से संबंधित निदान 1100 मे प्राप्त शिकायत का भी निराकरण एजेंसी के द्वारा किया जाएगा। मलबा को वाहन में संग्रहण करने के पश्चात इसे जोन के अधिकारियों द्वारा बताए गए उचित स्थानों पर डाला जा रहा है! वर्तमान में इस प्रकार के कचरे के उपयोग से ईट तैयार की जा रही है! व्यवसायिक एवं घरेलू उत्पाद के निर्माण कार्यों से निकलने वाले अवशेष को पुनः उपयोग करने के निर्देश भी दिए गए हैं। ऐसे निर्माण एवं विध्वंस मटेरियल के अवशेषों को जोकि सड़क पर इधर-उधर बिखरे रहते हैं, सड़क बाधा का कारण बनते हैं उन्हें एकत्रित कर पुनः उपयोग में लाने का कार्य निगम द्वारा पूर्व में भी किया जाता रहा है। इसके पुनः उपयोग करने की प्रक्रिया में सर्वप्रथम इनको अलग-अलग आकार के हिसाब से रखने के लिए सेग्रीगेशन मशीन की सहायता ली जाती है पश्चात इनको मिश्रित कर एक सांचे में ढाल दिया जाता है जिसे कुछ दिन तक उसी अवस्था में रखा जाता है पूर्ण रूप से मजबूत हो जाने पर उपयोग में लाया जा सकता है। सी एण्ड डी वेस्ट से सीमेंट की प्लेट, मैनहोल चेंबर की प्लेट, रोड में लगाने के लिए स्टॉप डिवाइडर ,ब्रिक्स एवं ब्लॉक, ड्रेन कवर आदि तैयार किया जा चुका है इसका उपयोग स्टॉप डिवाइडर के रूप में अभी तक पावर हाउस चौक के समीप, चंद्रा मौर्य चौक के समीप एवं नेहरू नगर चौराहे के गुरुद्वारे के समीप किया गया है जो कि यातायात को सुगम बनाने के लिए उपयोग में लाया जा रहा है। अंकुर एजेंसी द्वारा अभी तक कोसा नगर, अग्रसेन चौक, शांति नगर दशहरा मैदान, संतोषी पारा, वीआईपी नगर, मैत्री नगर, इस्पात नगर, प्रगति नगर, दुर्गा मंदिर, सुंदर नगर, बाबा दीप सिंह नगर, रामनगर, हाउसिंग बोर्ड स्टेडियम के समीप, शांति नगर दशहरा मैदान के समीप, जैन मंदिर के समीप सहित अन्य स्थानों से मलबा हटाया जा चुका है। एजेंसी द्वारा शहर के व्यवसायिक, आवासीय, बाजार क्षेत्र, औद्योगिक, चौक चौराहों, रिहायसी एवं सार्वजनिक स्थलों से निर्माण एवं विध्वंस से निकले अपशिष्ट को हटाने की कार्यवाही की जा रही है और इस कचरे का पुन: उपयोग कर ईट इत्यादि तैयार किया जा रहा है।

Swachh Bharat Abhiyan Bhilai Chhatisgarh #swachhbharat 2019
तालाबों की सफाई के तहत सूर्यकुंड तालाब, वार्ड 28 छावनी दर्री तालाब, वार्ड 35 के बालकनाथ मंदिर के समीप तालाब, वार्ड 16 का तालाब, वार्ड 27 घासीदासनगर तालाब, वार्ड 18 केम्प 01 सहित सभी तालाबों की सफाई की जा चुकी है। भिलाई निगम ने समस्त जोन आयुक्तों की बैठक लेकर शहर के सभी तालाबों तथा आस-पास के क्षेत्र प्रमुख सड़कों व गली-मोहल्ला की नियमित सफाई करने के निर्देश दिए हैं। तालाबों की सफाई अभियान में पर्यावरण मित्र परोपकार सेवा संस्था द्वारा निगम के अधिकारी एवं कर्मचारियों के साथ मिलकर रामनगर तालाब की सफाई भी किया गया। 

प्रमुख सड़कों की हो रही धुलाई-
 
निगम क्षेत्र के प्रमुख सड़कों की नियमित रूप से धुलाई की जा रही है ताकि धूल को निकाला जा सके। निगम के सफाई कर्मचारी रोजाना सुबह से सड़क किनारे फैले कचरों को उठाने, डिवाइडर किनारे जमे धूल को हटाने का कार्य कर रहे है। प्रमुख सड़कों व डिवाइडर को पानी से साफ किया जा रहा है ताकि धूलमुक्त किया जा सके।

- घनश्यामदासवैष्णव बैरागी
  भिलाई छत्तीसगढ़

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Popular Posts